मुमकिन है !

मुमकिन है !

बहुत मुमकिन है कि तुम्हारे ये अल्फाज़ ख़ामोश पड़ जाएं ,

        पर मुमकिन नहीं कि हमारे ये जज़्बात यूँ सिमट जाएं |

ज़िंदा है अब तलक वो उम्मीद वो ख़्वाहिश ,

                         जिसने कभी वफ़ा की उम्मीद जगाई थी |

अब तो साथ भी नहीं चलते ये कदम हर कदम पे ,

 जिसने कभी मीलों तय कर लिया था बस इक ख़्वाहिश पे |

सच कहूँ , इतना मुश्किल नहीं 

                              तुम्हारे होने में बस यूं ज़िंदा रहना ,

जितना कि तुममें ज़िंदा होकर ,

                                   बस यूं ही चले जाना |

Advertisements

2 विचार “मुमकिन है !&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s