काश..! मैं तुम जैसा होता |

   

यूं तो दुनिया हमें रिश्तों में ढूंढती है ,
                              पर एक तुम हो जो एहसासों में समझती हो |

यूं तो कभी बात भी नहीं करनी होती तुमको, 
                            पर जाने कैसे ,बिन कहे सब कुछ समझती हो।

चाहे वो गुस्से वाली डाँट हो या चंचल मुस्कान हो ,
                                                   सब एक जैसे लगने लगतें हैं।  

तुम्हें तो special होना भी अच्छा नहीं लगता, 
                                 Attention  लेना भी अच्छा नहीं लगता ।

कभी सोचा है कितना मुश्किल होता है ,
                   हमारे लिए तुम्हारी हाँ में ना और ना में हाँ को ढूंढना ।

कितना अजी़ब है ना ये सफ़र ,
                           रास्ते जितने दूर ले जाने की कोशिश करतें हैं ।
    
          ये जिंद़गी हमें उतने करी़ब लाकर खडा़ कर देती है ।          

                                                                 Raman’S

Advertisements

2 विचार “काश..! मैं तुम जैसा होता |&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s