देखा नहीं तुमको….

                       

    देखा नहीं तुमको, 
                               यूं हालात  से लड़ते हुए बिख़र जाना।
                                                                                                    पर महसूस किया है तुम्हारी आंखों में ,

                                           अश्कों का यूं शुष्क हो जाना।

  थकते नहीं हो, कुछ कहते नहीं हो  
                                         फि़र कैसे इस बेनाम सफ़र में ,             हमसफ़र की तरह चलते रहते हो ।

  मुश्किल है ना इक ‘बेईमां बेटे ‘ की चाहत में,
                                                   यूं ईमान ‘अदा’ करते रहना   बग़ैर किसी ख्वाहिश और उम्मीद के ।

 सच में इंसान ही हो न आप….?

                          हां ! क्योंकि भगवान के हम “का़बिल” भी नहीं।

Inspired By ~  पिता श्री

Written By ~ M Raman’$

                                   

         

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s