जब हुए खफ़ा वो हमसे तो ..

जब हुए खफ़ा वो हमसे तो ,

फ़िर भी हमें शिकवा नहीं

जो गए भूल गर हम भी तो,

हम उनके मितवा नहीं ।

वो हुए अकेले एक दिन तो ,

उनका कोई सगा नहीं ।

लो कैसे कह दें आज ये हम ,

हम आज भी उनसे जुदा नहीं ।

जो हममें पनपी चाहत है ,

है आज भी उसका मोल नहीं ।

वो हुए जुदा न हमसे भी ,

न हुए ज़ुदा हम उनसे भी  ।

 

Advertisements

जब हुए खफ़ा वो हमसे तो ..&rdquo पर एक विचार;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s