हसरत भरी शाम…!

unnamed (3)वो इक हस़रत भरी शाम थी ,
              कुछ मुसाफिरों के नाम थी।

गैरों की उस मह़फिल में,
         बस वो जा़म अपने नाम थी ।

जिक़र अपनो का था पर,
          फिक्र किसी और के नाम थी।

शिद्दत तो बहुत थी कुछ कहने की,
                    पर इजाज़त दिल की उसके नाम न थी।

Advertisements

3 विचार “हसरत भरी शाम…!&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s