Saloni ~ यादें 


तो कहो कुछ तुम तो बिल्कुल शांत ही हो गए ~ थोड़ी देर की खामोशी के बाद सलोनी ने खुद ही बातों का सिलसिला आगे बढ़ाते हुए पूछा

नहीं …मैं actually चाय पे कॉन्सनट्रेट कर रहा हूँ , ठंडी हो गयी तो अच्छा नही लगेगा ~ अक्षत

नहीं चाय तो दुबारा गर्म हो जाएगी , इतना क्या सोचना ~ सलोनी

वैसे तुमने अच्छा सांग सलेक्ट किया था फ्रेशर पार्टी में ~ अक्षत ने लगभग सकुचाते हुए बोला

वाह , तारीफ भी की तो सांग की , और मेरी सिंगिंग कैसी लगी ~ सलोनी

अच्छा था … स्पेशली जब अंतरा गा रही थी तो , काफी फील आ रहा था सबको ~ अक्षत

सबको या …तुम्हें , u know तुम लोग के जाने के बाद जब हम बाहर निकल रहे थे , मैं गिर गयी थी गली में , तो सब थोड़े परेशान हो गए जबकि थोड़ी मोच आयी थी ~ सलोनी

ओह्ह …तुमने बताया नही , वैसे काफी केअर रिंग हैं सब सही है ~ अक्षत

नही थोड़ी मोच थी बस , बताना क्या तुम कौन कहीं के हक़ीम हो ~ सलोनी

ह्म्म्म…… सही है ~ अक्षत

वैसे निर्झर भी काफी तारीफ कर रहा था ~ सलोनी ने बात पूरी करते हुए कहा

सही है तुम्हारी तो अभी से फैन फॉलोविंग हो गयी ~ अक्षत ने चुटकी लेते हुए बोला

वैसे पराग और सैफ के रहे थे कि तुम भी काफी अच्छा गा लेते हो ~ सलोनी

हाहाहाहा ….अभी अभी मूड फ्रेश किया है तुमने , अब अभी तो नहीं खराब कर सकता ,वैसे तुम्हें याद हो तो तुमको मैन गा के सुनाया है ~ अक्षत

Oohh …really , ह्म्म्म कब ~ सलोनी

भूल गयी न , सोच लो ऐसा ही गाता हूँ कि किसी को याद तक नहीं रह पाता ~ अक्षत ने मायूस लहज़े में जवाब दिया

तुम बिन जिया जाए कैसे

कैसे जिया जाए तुम बिन ,

आ जाओ लौट कर के, ये दिल कह रहा है ।

फिर शाम ए तन्हाई जागी , फिर याद तुम आ रहे हो ।

~ सलोनी ने अपने सुरीले अंदाज में गुलज़ार साहब का ये गाना ऐसे दुहराया , की बस एक पल को सब थम सा गया ।

Wow …what a surprize यार , दिल खुश कर दिया तुमने ,i’m glad की तुम्हें याद था ~ अक्षत

क्यूँ सिर्फ तुम्हें ही चीजें याद रह सकती हैं , वैसे कुछ और सुनना है तो बोलो मूड काफी फ्रेश हो चुका है ~ सलोनी ने इस बार दिलखुश मिज़ाज़ से पूछा

जो तुम्हें अच्छा लगे ~ अक्षत

एक लकी अली का सांग है , सुनो

गोरी तेरी आंखे कहे ,की रात भर सोई नहीं

चंदा देखे चुपके कहीं,की तारे जानते हैं सभी

की किसने दिल ले लिया , किसको दिल दे दिया ।

ये दिल का लगाना कोई जानता नहीं ।

सांग लगभग खत्म होते होते , काफी भावुक हो चुकी थी वो ….

इतनी प्यारी आवाज़ , अच्छा है ~ अक्षत

चलो अब काफी शाम हो चुकी है , वरना मेरे होस्टल के गेट भी बंद हो जाएंगे ।

#yqbaba#yqdidi#yqbhaijaan#yqtale# Saloni ~ यादें #

Follow my writings on https://www.yourquote.in/safar03raman #yourquote

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s