बचपन वाली जाह्नवि…!


जानते हैं हम की तुम बड़ी हो रही हो ,
बचपन की यादें साथ लिए खड़ी हो रही हो ।

वो गलतियां , वो मासूमियत ,और सिसकियां
सब कुछ है अभी तुम्हारे हिस्से में ,

बस सहेज़ कर रखना तुम इसे
अपने आने वाले ज़िन्दगी के क़िस्से में ।

अब चाहे पापा की सुपर हीरो वाली छवि हो
या मम्मी के डांट ,और सहूलियत की जो पड़ी हो ,

या फिर तुम्हारे आजाद ख़यालो की वो लड़ी हो
बहोत सलीक़े से संभाल के रखना इसे ,

ये ज़िन्दगी के वो रिश्ते हैं जो
किसी मुकाम पे नहीं मिलते ,
दिल बहोत साफ होता है इनका
तभी तो हम इनके नाम नहीं पूछते ।

गर गुम हो जाओ कभी इन
दुनियावी समझदारी के किस्सों में ,

ढूंढ लेना तुम अपने जज्बात
फिर से इन्हीं रिश्तों में ।
ये हमेशा मिलते हैं हम सब को वहीं ,
हमने छोड़ा था जिन्हें कहीं ।

जानता हूँ , उम्र अभी छोटी है
हमारा लिखा हुआ परखने के लिए ,

पर तुम्हारी मासूमियत ही काफी है
इस लिखे हुए को समझने के लिए ।

#yqbaba#yqdidi#yqbhaijaan#yqtale# बचपन वाली जाह्नवी #

Follow my writings on https://www.yourquote.in/safar03raman #yourquote

Advertisements

2 विचार “बचपन वाली जाह्नवि…!&rdquo पर;

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s